Sheetalnath Chalisa | शीतलनाथ चालीसा

Sheetalnath Chalisa

Sheetalnath Chalisa

शीतल हैं शीतल वचन, चन्दन से अधिकाय।
Seetal hai seetal vachan, chandan se abikay l

कल्प वृक्ष सम प्रभु चरण, हैं सबको सुखकाय॥
Kalp vrksh sam prabhu charan, hain sabke sukhkaya ll

जय श्री शीतलनाथ गुणाकर, महिमा मंडित करुणासागर।
Jai shri sheetalnath gunakar, mahima mandit karunasagar l

भाद्दिलपुर के दृढरथ राय, भूप प्रजावत्सल कहलाये॥
Bhadilpur ke drdharath rai, bhup prajavatsal kahalaye

रमणी रत्न सुनन्दा रानी, गर्भ आये श्री जिनवर ज्ञानी।
Ramni rath sunanda rani, garbh aaye shri jinvar gyani l

द्वादशी माघ बदी को जन्मे, हर्ष लहर उठी त्रिभुवन में॥
Dvadashi magah badi ke janme, harsh lahar uthi tribhuvan main ll

उत्सव करते देव अनेक, मेरु पर करते अभिषेक।
Utsav karte dev aanek, metu par karte abishek l

नाम दिया शिशु जिन को शीतल, भीष्म ज्वाल अध् होती शीतल॥
Naam diya shrishu jin je sheetal, bheshm jval adh hoti sheetal ll

एक लक्ष पुर्वायु प्रभु की, नब्बे धनुष अवगाहना वपु की।
Ek laksh purvayu prabhu ki, nabbe dhanush avagahana vapu ki l

वर्ण स्वर्ण सम उज्जवलपीत, दया धर्मं था उनका मीत॥
Varn svarn sam ujjavalpeet, daya dharman tha unka meet ll

निरासक्त थे विषय भोगो में, रत रहते थे आत्म योग में।
Nirasakt the vishay bhoga main, rat rahate the aanm yog main l

एक दिन गए भ्रमण को वन में, करे प्रकृति दर्शन उपवन में॥
Ek din gay bhraman ko van main, kare prakrti darshan upvan main ll

लगे ओसकण मोती जैसे, लुप्त हुए सब सूर्योदय से।
Lage osakan moti jaise, lupt hue sab sooroday se l

देख ह्रदय में हुआ वैराग्य, आत्म राग में छोड़ा राग॥
Dikh hraday main huaa vairagy, aatm rag main choda rag ll

तप करने का निश्चय करते, ब्रह्मर्षि अनुमोदन करते।
Tab karme ka nischay karte, brahmarshi anumodan karte l

विराजे शुक्र प्रभा शिविका में, गए सहेतुक वन में जिनवर॥
Viraje shukr prabha sivika main, gay sahetuk van main jinvar ll

संध्या समय ली दीक्षा अश्रुण, चार ज्ञान धारी हुए तत्क्षण।
Sandhya samay le deeksha ashrun, char gyan dhari hue tatkshan l

दो दिन का व्रत करके इष्ट, प्रथामाहार हुआ नगर अरिष्ट॥
Do din ka vrat karke isht, prathamahar huaa nagar arisht ll

दिया आहार पुनर्वसु नृप ने, पंचाश्चार्य किये देवों ने।
Diya aahar punarvasu nrp ne, panchashchary kiye devon ne l

किया तीन वर्ष तप घोर, शीतलता फैली चहु और॥
Kiya teen varsh tap ghor, sheetalta phaili chahu aur ll

कृष्ण चतुर्दशी पौषविख्यता, केवलज्ञानी हुए जगात्ग्यता।
Krshn chaturdashi paushavikhyata, kevalgyani hue jagatgyata l

रचना हुई तब समोशरण की, दिव्यदेशना खिरी प्रभु की॥
Rachna hui tab samesharan ki, divyadeshna khiri prabhu ki ll

आतम हित का मार्ग बताया, शंकित चित्त समाधान कराया।
Aatam hit ka marg bataya, shankit chit samadhan karaya l

तीन प्रकार आत्मा जानो, बहिरातम अन्तरातम मानो॥
Teen prakar aatma jane, bahiratam antaratam mano ll

निश्चय करके निज आतम का, चिंतन कर लो परमातम का।
Nichchay karke nij aatam ka, chintan kar lo parmanam ka l

मोह महामद से मोहित जो, परमातम को नहीं माने वो॥
Mohe mahamad se mohit ko, parmatam ke nahin mane vo ll

वे ही भव भव में भटकाते, वे ही बहिरातम कहलाते।
Ve hi bhav bhav main bhatakate, ve hi bahiratm kahlate l

पर पदार्थ से ममता तज के, परमातम में श्रद्धा कर के॥
Par padathr se mamta taj ke parmatam main shraddha kar ke ll

जो नित आतम ध्यान लगाते, वे अंतर आतम कहलाते।
Jo nit aatam dhyan lagate, ve aantar aatam kahlate l

गुण अनंत के धारी हे जो, कर्मो के परिहारी है जो॥
Gun anant ke dhari he jo, karmo ke parihari hain jo ll

लोक शिखर के वासी है वे, परमातम अविनाशी है वे।
Lok shikhar ke vashi hai ve parmatam abinashi hai ve l

जिनवाणी पर श्रद्धा धर के, पार उतारते भविजन भव से॥
Jinvani par sharddha dhar ke par utarte bhavijan bhav se ll

श्री जिन के इक्यासी गणधर, एक लक्ष थे पूज्य मुनिवर।
Shri jin ke ikyashi gundhar, ek laksh the pujay munivar l

अंत समय में गए सम्म्मेदाचल, योग धार कर हो गए निश्चल॥
Ant samay main gay sammmedachalm, yog dhar ke hai gay nishchal ll

अश्विन शुक्ल अष्टमी आई, मुक्तिमहल पहुचे जिनराई।
Ashvin shukl ashtami aai, muktimahal pahuche jinrai l

लक्षण प्रभु का कल्पवृक्ष था, त्याग सकल सुख वरा मोक्ष था॥
Lakshan prabhu ka kalpavrksh tha, tyag sakal sukh vara moksh tha ll

शीतल चरण शरण में आओ, कूट विद्युतवर शीश झुकाओ।
Sheetal charan sharan main aao, koot vidtutavar sheesh jhukao l

शीतल जिन शीतल करें, सबके भव आतप।
Sheetal jin sheetal karen, sabke bhav aatap l

अरुणा के मन में बसे, हरे सकल संताप॥
Aruna ke man main base, hare sakal santap ll

Sheetalnath Chalisa

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

सम्बंधित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *