Sai Chalisa | साई चालीसा

Sai Chalisa

Sai Chalisa

॥चौपाई॥

पहले साई के चरणों में, अपना शीश नमाऊं मैं।
Pahle sai ke charnon main, aapka sheesh namaoon main l
कैसे शिरडी साई आए, सारा हाल सुनाऊं मैं॥

Kaise shirdi sai aae, sara hal sumaoon main ll

कौन है माता, पिता कौन है, ये न किसी ने भी जाना।
Kon hai mata, pita kon hai, ye n kise ne bhi jana l
कहां जन्म साई ने धारा, प्रश्न पहेली रहा बना॥

Kahan janam sai ne dhara, prashn paheli raha bana ll

कोई कहे अयोध्या के, ये रामचंद्र भगवान हैं।
Koi kahe aayudhya ke, ye ramchandr bhagean hain l
कोई कहता साई बाबा, पवन पुत्र हनुमान हैं॥

Koi kahata sai baba, pavan putr hanuman hain ll

कोई कहता मंगल मूर्ति, श्री गजानंद हैं साई।
Koi kahata mangal murti, shri gajanand hain sai l
कोई कहता गोकुल मोहन, देवकी नन्दन हैं साई॥

Koi kahta gokul mohan, devki nandan hai sai ll

शंकर समझे भक्त कई तो, बाबा को भजते रहते।
Shankar samjhe bhakat koi to, baba ko bhajte rahte l
कोई कह अवतार दत्त का, पूजा साई की करते॥

Koi kah avtar datt ka, pooja sai ki karte ll

कुछ भी मानो उनको तुम, पर साई हैं सच्चे भगवान।
Kuch bhi mano unko tum, par sai hai sacche bhagvan l
बड़े दयालु दीनबन्धु, कितनों को दिया जीवन दान॥
Bade dayalu dinbndu, kiton ki diya jeevan daan ll

कई वर्ष पहले की घटना, तुम्हें सुनाऊंगा मैं बात।
Koi varsh pahle ki ghata, tumne sunaonga main bat l
किसी भाग्यशाली की, शिरडी में आई थी बारात॥

kishi bhagyshali ki shirdi main aai thi barat l

आया साथ उसी के था, बालक एक बहुत सुन्दर।
Aaya sath usi ke tha, balak ek bahut sundar l
आया, आकर वहीं बस गया, पावन शिरडी किया नगर॥

Aaya, aakar vahin bas gaya, pavan shirdi kiya nagar ll

कई दिनों तक भटकता, भिक्षा माँग उसने दर-दर।
Kai dinon tak bhatkata, bhiksha maag usne dar-dar l
और दिखाई ऐसी लीला, जग में जो हो गई अमर॥

Aur dikhai aisee lila, jag main jo ho gai amar ll

जैसे-जैसे अमर उमर बढ़ी, बढ़ती ही वैसे गई शान।
Jaise-jaise amar umar badi, badti ho baise gai sham l
घर-घर होने लगा नगर में, साई बाबा का गुणगान ॥10॥

Ghar-ghar hone laga nagar main, sai baba ka gungan ll 10 ll

दिग्-दिगन्त में लगा गूंजने, फिर तो साईंजी का नाम।
Digr-dignt main laga gunjane, fir te saiji ka naam l
दीन-दुखी की रक्षा करना, यही रहा बाबा का काम॥

Din-dukhi ki raksha karna, yahi raha baba ka kam ll

बाबा के चरणों में जाकर, जो कहता मैं हूं निर्धन।
Baba ke charnon main jakar, jo kahta main hun nidhrn l
दया उसी पर होती उनकी, खुल जाते दुःख के बंधन॥

Daya ushi par hoti unki, khul jate dukh ke bandhan ll

कभी किसी ने मांगी भिक्षा, दो बाबा मुझको संतान।
Kabhi kishi ne mangi bhiksha, do baba mukhko santan l
एवं अस्तु तब कहकर साई, देते थे उसको वरदान॥

Evan astu tab kahakar sai, dete the usko vardan ll

स्वयं दुःखी बाबा हो जाते, दीन-दुःखी जन का लख हाल।
Svayan dukhi baba ho jate, din-dukhi jan ka lakh hal l
अन्तःकरण श्री साई का, सागर जैसा रहा विशाल॥

Aant: Karan shri sai ka, sagar jaisa raha vishal ll

भक्त एक मद्रासी आया, घर का बहुत ब़ड़ा धनवान।
Bhakat ek mdrsi aaya, ghar ka bahut bada dhanvan l
माल खजाना बेहद उसका, केवल नहीं रही संतान॥

Maal khajana vehad uska, keval nahin rahi santan ll

लगा मनाने साईनाथ को, बाबा मुझ पर दया करो।
Laga manane sainath ko, baba mujh par daya karo l
झंझा से झंकृत नैया को, तुम्हीं मेरी पार करो॥

Jhanjha se jhankrat naiya ko, tumhin meri paar karo ll

कुलदीपक के बिना अंधेरा, छाया हुआ घर में मेरे।
Kuldeepak ke bina andhera, chaya huaa ghar main mere l
इसलिए आया हूँ बाबा, होकर शरणागत तेरे॥

Isliye aaya hoon baba, hokar sharnagat tere ll

कुलदीपक के अभाव में, व्यर्थ है दौलत की माया।
Kuldeepak ke aabhav main, vyatr ho daidat ki maya l
आज भिखारी बनकर बाबा, शरण तुम्हारी मैं आया॥

Aaj bhikhari bankar baba, sharan tumhari main aaya ll

दे दो मुझको पुत्र-दान, मैं ऋणी रहूंगा जीवन भर।
De do mujhko putr-dan, main rni rahunga jeevan bhar l
और किसी की आशा न मुझको, सिर्फ भरोसा है तुम पर॥

Aur kisi ki aasha na mujhko, sifr bharosa hai tum par ll

अनुनय-विनय बहुत की उसने, चरणों में धर के शीश।
Anunay-vinay bahut ki usne, charanon main dhar ke sheesh l
तब प्रसन्न होकर बाबा ने , दिया भक्त को यह आशीश ॥20॥

Tab prasann hokar baba ne diya bhakat ko yah aasheesh ll 20 ll

अल्ला भला करेगा तेरा’ पुत्र जन्म हो तेरे घर।
Alla bhala karega tera putr janm ho tere ghar l
कृपा रहेगी तुझ पर उसकी, और तेरे उस बालक पर॥

Krpa rahegi tujh par uski, aur tere us baakal par ll

अब तक नहीं किसी ने पाया, साई की कृपा का पार।
Aab tak nahin kishi ne paya, sai ki krpa ka par l
पुत्र रत्न दे मद्रासी को, धन्य किया उसका संसार॥

Putr ratn de madraasi ko, dhany kiya uska sansar ll

तन-मन से जो भजे उसी का, जग में होता है उद्धार।
Tan-man se jo bhaje ushi ka, jag main hota hai uddhaar l
सांच को आंच नहीं हैं कोई, सदा झूठ की होती हार॥

Saanchko aanch nahin hai koi, sada jhuth ki hoti har ll

मैं हूं सदा सहारे उसके, सदा रहूँगा उसका दास।
Main hoon saada sahare uske, sada rahooga unka das l
साई जैसा प्रभु मिला है, इतनी ही कम है क्या आस॥

Sai jaisa prabhu mila hai, itni hai kam hai kya aas ll

मेरा भी दिन था एक ऐसा, मिलती नहीं मुझे रोटी।
Mera bhi din tha ek esa, milti nahin mujhe roti l
तन पर कप़ड़ा दूर रहा था, शेष रही नन्हीं सी लंगोटी॥

Tan par kapda dur raha tha, shesh rahi nanhin see langoti ll

सरिता सन्मुख होने पर भी, मैं प्यासा का प्यासा था।
Sarita sanmukh hone par bhi, main pyasa ka pyasa tha l
दुर्दिन मेरा मेरे ऊपर, दावाग्नी बरसाता था॥

Durdin mera mere upar, davagri barsata tha ll

धरती के अतिरिक्त जगत में, मेरा कुछ अवलम्ब न था।
Dharti ke atirikt jagat main mera kuch avlamb na tha l
बना भिखारी मैं दुनिया में, दर-दर ठोकर खाता था॥

Bana bhikhari main dukiya main, dur-dur thokar khata tha ll

ऐसे में एक मित्र मिला जो, परम भक्त साई का था।
Aese main ek mitr mila jo, parm bhakt sai ka tha l
जंजालों से मुक्त मगर, जगती में वह भी मुझसा था॥

Janjalon se mukt magar, jagti main vah bhi mujhsa tha ll

बाबा के दर्शन की खातिर, मिल दोनों ने किया विचार।
Baba ke darshan ki khatir, mil donon ne kiya vichar l
साई जैसे दया मूर्ति के, दर्शन को हो गए तैयार॥

Sai jaise daya murti ke, darshan ko ho gay taiyar ll

पावन शिरडी नगर में जाकर, देख मतवाली मूरति।
Pavan sherdi nagar main jakar, dekh manvali murti l
धन्य जन्म हो गया कि हमने, जब देखी साई की सूरति ॥30॥

Dhny janm ho gaya ki humne, jab dekhai sai ki surti ll 30 ll

जब से किए हैं दर्शन हमने, दुःख सारा काफूर हो गया।
Jab se kiya hain darshan humne, dukh sara kafur ho gaya l
संकट सारे मिटै और, विपदाओं का अन्त हो गया॥

Sankat sare mitai aur, bipdaaan ka ant ho gaya ll

मान और सम्मान मिला, भिक्षा में हमको बाबा से।
Maan our samman mila, bhiksha main humke baba se l
प्रतिबिम्‍बित हो उठे जगत में, हम साई आभा से॥

Pratibimbit ho uthe jagat main, hum sai ki aabha se ll

बाबा ने सन्मान दिया है, मान दिया इस जीवन में।
Baba ne sanman diya hai, man diya is jeevan main l
इसका ही संबल ले मैं, हंसता जाऊंगा जीवन में॥

Iska hu sanbal le main, hansta jaoonga jeewan main ll

साई की लीला का मेरे, मन पर ऐसा असर हुआ।
Sai ki leela ka mere, man par esa asar huaa l
लगता जगती के कण-कण में, जैसे हो वह भरा हुआ॥

Lagta jagti ke kan-kan main, jaise ho vah bhara huaa ll

‘काशीराम’ बाबा का भक्त, शिरडी में रहता था।
‘Kashiram’ baba ka bhakt. shirdi main rahta tha l
मैं साई का साई मेरा, वह दुनिया से कहता था॥

Main sai ka sai mera, vah duniya se kahta tha ll

सीकर स्वयं वस्त्र बेचता, ग्राम-नगर बाजारों में।
Seekar svayan vastr bechta, gram-nagar bajaren main l
झंकृत उसकी हृदय तंत्री थी, साई की झंकारों में॥

Jhnkut uski harday tantri thi, sai ki jhankaren main ll

स्तब्ध निशा थी, थे सोय, रजनी आंचल में चाँद सितारे।
Stabdh nisha thi, te soy, rajni aanchal main chand sitare l
नहीं सूझता रहा हाथ को हाथ तिमिर के मारे॥

Nahin sujhta raha hath ko hath timir ke mare ll

वस्त्र बेचकर लौट रहा था, हाय ! हाट से काशी।
Vastr bechkar lait raha tha, hay! hat se kashi l
विचित्र ब़ड़ा संयोग कि उस दिन, आता था एकाकी॥

Vichir bada sanyoh ki us din, aata tha ekaki ll

घेर राह में ख़ड़े हो गए, उसे कुटिल अन्यायी।
Gher rah main khade ho gay, use kutil anyayi l
मारो काटो लूटो इसकी ही, ध्वनि प़ड़ी सुनाई॥

Maro kato luto iska hi, dhani padi sunai ll

लूट पीटकर उसे वहाँ से कुटिल गए चम्पत हो।
Lut peetkar use vha se kutil gay campat ho l
आघातों में मर्माहत हो, उसने दी संज्ञा खो ॥40॥

Aadhaten main marmaahat ho, usne di sangya kho ll 40 ll

बहुत देर तक प़ड़ा रह वह, वहीं उसी हालत में।
Bahut der tak pada rah vah, vahin usi halat main l
जाने कब कुछ होश हो उठा, वहीं उसकी पलक में॥

Jaane kab kuch hosh ho oota, vahin uski pakal main ll

अनजाने ही उसके मुंह से, निकल प़ड़ा था साई।
Anjane hi uske munh se, nikal pada tha sai l
जिसकी प्रतिध्वनि शिरडी में, बाबा को प़ड़ी सुनाई॥

Jiski praitdhvni shirdi main, baba ko pade sunai ll

क्षुब्ध हो उठा मानस उनका, बाबा गए विकल हो।
Kshubdh ho uta manas unka, baba gay bikal ho l
लगता जैसे घटना सारी, घटी उन्हीं के सन्मुख हो॥

Lagata jaise ghatna sari, ghati unhin sumukh ho ll

उन्मादी से इ़धर-उ़धर तब, बाबा लेगे भटकने।
Unmadi se idhar-udhar tab, baba lege bhatkne l
सन्मुख चीजें जो भी आई, उनको लगने पटकने॥

Snmukh chijen jo bhi aai, unke lagne patkane ll

और धधकते अंगारों में, बाबा ने अपना कर डाला।
Aur dhdhkane anganen main, baba ne aapna kar dala l
हुए सशंकित सभी वहाँ, लख ताण्डवनृत्य निराला॥

hue sashankit sabhi vaha, lakh tandvnrty nirala ll

समझ गए सब लोग, कि कोई भक्त प़ड़ा संकट में।
Samjh gay sab log, ki koi bhakt pada sankat main l
क्षुभित ख़ड़े थे सभी वहाँ, पर प़ड़े हुए विस्मय में॥

kshubhit khade the sabhi vaha, par pade hue vismay main ll

उसे बचाने की ही खातिर, बाबा आज विकल है।
use bachane ki hi khatir, baba aaj vikal hai l
उसकी ही पी़ड़ा से पीडित, उनकी अन्तःस्थल है॥

uski hi pida se piditm unki ant: sthal hai ll

इतने में ही विविध ने अपनी, विचित्रता दिखलाई।
itne main hi vividh ne aapni, vichitrta dikhlai l
लख कर जिसको जनता की, श्रद्धा सरिता लहराई॥

Lakh kar jisko janta ki, sraddha srita lahrai ll

लेकर संज्ञाहीन भक्त को, गा़ड़ी एक वहाँ आई।
Lekar sangyahin bhakt ko, gadi ek vaha aai l
सन्मुख अपने देख भक्त को, साई की आंखें भर आई॥

Sanmukh aapne dekh bhakt ko, sai ki aankhen bhar aai ll

शांत, धीर, गंभीर, सिन्धु सा, बाबा का अन्तःस्थल।
Shant, deer, ganbheer, sindhu sa, baba ka ant:sthal l
आज न जाने क्यों रह-रहकर, हो जाता था चंचल ॥50॥

Aaj na jane kyon rah-rahkar, ho jata tha chanchal ll 50 ll

आज दया की मूर्ति स्वयं था, बना हुआ उपचारी।
Aaj daya ki murti svayan tham bana huaa upchari l
और भक्त के लिए आज था, देव बना प्रतिहारी॥

Aur bhakt ke liye aaj tha, dev bano pratihari ll

आज भक्ति की विषम परीक्षा में, सफल हुआ था काशी।
Aaj bhakti ki visham parisha main, safal huaa tha kashi l
उसके ही दर्शन की खातिर थे, उम़ड़े नगर-निवासी॥

Uske hi darshan ki khatir the, umde nagar-nivasi ll

जब भी और जहां भी कोई, भक्त प़ड़े संकट में।
Jab bhi aur jahan bhi koi, bhakat pade sankat main l
उसकी रक्षा करने बाबा, आते हैं पलभर में॥

Uski raksha karne baba, aate hain palbhar main ll

युग-युग का है सत्य यह, नहीं कोई नई कहानी।
Yug-yug ka hai saty yah, nahin koi nai kahani ll
आपतग्रस्त भक्त जब होता, जाते खुद अन्तर्यामी॥

Aaptgrst bhakt jab hota, jate khud antaryami ll

भेद-भाव से परे पुजारी, मानवता के थे साई।
Bhed-bhav se pare pujari, maanvta ke the sai ll
जितने प्यारे हिन्दू-मुस्लिम, उतने ही थे सिक्ख ईसाई॥

Jitne pyare hindu-muslim, utne hi the sikkh isai ll

भेद-भाव मन्दिर-मस्जिद का, तोड़-फोड़ बाबा ने डाला।
Bhed-bhav mandir-majid ka tod-fod baba ne dala l
राह रहीम सभी उनके थे, कृष्ण करीम अल्लाताला॥

Rah rahim sabhi unke the, krshn karim allatala ll

घण्टे की प्रतिध्वनि से गूंजा, मस्जिद का कोना-कोना।
Gante ki pratidhvni se gunja, majid ka kona-kona l
मिले परस्पर हिन्दू-मुस्लिम, प्यार बढ़ा दिन-दिन दूना॥

Mile parspar hindu-muslim, pyar bada din-din duna ll

चमत्कार था कितना सुन्दर, परिचय इस काया ने दी।
Chatkar tha kitna sundar, parichay is kaya ne di l
और नीम कडुवाहट में भी, मिठास बाबा ने भर दी॥

Aur neem kaduvahat main bhi, mitas baba ne bhar di ll

सब को स्नेह दिया साई ने, सबको संतुल प्यार किया।
Sab ko sneh diya sai ne, sabke santul pyar kiya l
जो कुछ जिसने भी चाहा, बाबा ने उसको वही दिया॥

Jo kuch jisne bhi chaha, baba ne usko vahi diya ll

ऐसे स्नेहशील भाजन का, नाम सदा जो जपा करे।
aise snehasheel bhajan ka, naam sada jo japa kare l
पर्वत जैसा दुःख न क्यों हो, पलभर में वह दूर टरे ॥60॥

Parvat jaisa dukh na kyon ho, palbhar main vah dur tare ll 60 ll

साई जैसा दाता हमने, अरे नहीं देखा कोई।
Sai jaisa data hamne, aru nahin dekha koi l
जिसके केवल दर्शन से ही, सारी विपदा दूर गई॥

Jiske keval darshan se hi, sari vipda dur pai ll

तन में साई, मन में साई, साई-साई भजा करो।
Tum main sai, man main sai, sai-sai bhaja kare l
अपने तन की सुधि-बुधि खोकर, सुधि उसकी तुम किया करो॥

Aapne tan ki suddhi-buddhi khokar, suddi uski tum kiya karo ll

जब तू अपनी सुधि तज, बाबा की सुधि किया करेगा।
Jab tu aapni suddi taj, baba ki suddi kiya karega l
और रात-दिन बाबा-बाबा, ही तू रटा करेगा॥

Aur rat-din baba-baba, hi rata karega ll

तो बाबा को अरे ! विवश हो, सुधि तेरी लेनी ही होगी।
To baba ko are ! vivash ho, suddi teri leni hi hogi l
तेरी हर इच्छा बाबा को पूरी ही करनी होगी॥

Teri har ikccha baba ko puri karni hogi ll

जंगल, जगंल भटक न पागल, और ढूंढ़ने बाबा को।
Jangal, jangal bhatak na paagal, aur dhundhane baba ko l
एक जगह केवल शिरडी में, तू पाएगा बाबा को॥

Ek jagah keval shirdi main, tu paaega baba ko ll

धन्य जगत में प्राणी है वह, जिसने बाबा को पाया।
Dhany jagat main prani hai vah, jisne baba ko paya l
दुःख में, सुख में प्रहर आठ हो, साई का ही गुण गाया॥

Dukh main sukh main prahar aat ho, sai ka hi gun gaya ll

गिरे संकटों के पर्वत, चाहे बिजली ही टूट पड़े।
Gire sankton ke parvat, chahe bijli hi tut pade l
साई का ले नाम सदा तुम, सन्मुख सब के रहो अड़े॥

Sai ka le naam sada tum, sanmukh sab ke rahe ade ll

इस बूढ़े की सुन करामत, तुम हो जाओगे हैरान।
Is bude ko sun karamat, tum ho jaooge hairan l
दंग रह गए सुनकर जिसको, जाने कितने चतुर सुजान॥

Dang rah gay sunkar jiske, jane kitne chatur sujaan ll

एक बार शिरडी में साधु, ढ़ोंगी था कोई आया।
Ek bar shirdi main sadhu, dhongi tha koi aaya l
भोली-भाली नगर-निवासी, जनता को था भरमाया॥

Bholi-bhali nagar-nivasi, janta ko tha bharmaya ll

जड़ी-बूटियां उन्हें दिखाकर, करने लगा वह भाषण।
Jadi-budiyan unhen dikhkar, karne laga vah bhashan l
कहने लगा सुनो श्रोतागण, घर मेरा है वृन्दावन ॥70॥

Kahne laga suno shrotaagan, ghar mera hai vrndavan ll

औषधि मेरे पास एक है, और अजब इसमें शक्ति।
aushadhi mere paas ek hai, aur ajab ismain shakti l
इसके सेवन करने से ही, हो जाती दुःख से मुक्ति॥

Iske sevan karne se hi, jo jati dukh se mukti ll

अगर मुक्त होना चाहो, तुम संकट से बीमारी से।
Agar mukt hona chahe, tum sankat se bimari se l
तो है मेरा नम्र निवेदन, हर नर से, हर नारी से॥

To hai mera namr nivedan, har nar se, har nari se ll

लो खरीद तुम इसको, इसकी सेवन विधियां हैं न्यारी।
Lo karid tum isko, iski sevan bidhiyan hain nyari l
यद्यपि तुच्छ वस्तु है यह, गुण उसके हैं अति भारी॥

Yadyapi tuchchh vastu hai yah, gun uske hain ati bhari ll

जो है संतति हीन यहां यदि, मेरी औषधि को खाए।
Jo hai santit hin yahan yadi, meri aushadhi ko khae l
पुत्र-रत्न हो प्राप्त, अरे वह मुंह मांगा फल पाए॥

Putr-rtn ho pratn, are vah munh manga gal pae ll

औषधि मेरी जो न खरीदे, जीवन भर पछताएगा।
Aushadhi meri jo n kharede, jeewan bhar pactaega l
मुझ जैसा प्राणी शायद ही, अरे यहां आ पाएगा॥

Mujh jaisa prani shayad hi, are yahan aa paega ll

दुनिया दो दिनों का मेला है, मौज शौक तुम भी कर लो।
Duniya do dinon ka mela hai, maij shauk tum bhi kar lo l
अगर इससे मिलता है, सब कुछ, तुम भी इसको ले लो॥

Agar isse milta hai sab kuch, tum bi isko le lo ll

हैरानी बढ़ती जनता की, लख इसकी कारस्तानी।
Hairani badti janta ki, lakh iski karstani l
प्रमुदित वह भी मन- ही-मन था, लख लोगों की नादानी॥

Pramudin vah bi man-hi-man tha, lakh logon ki naagani

खबर सुनाने बाबा को यह, गया दौड़कर सेवक एक।
Khabar sunone baba ko vah, gaya daidkar sevak ek l
सुनकर भृकुटी तनी और, विस्मरण हो गया सभी विवेक॥

Sinkar brkuti tani aur, bismran ho gaya sabhi vivek ll

हुक्म दिया सेवक को, सत्वर पकड़ दुष्ट को लाओ।
Hukm diya sevak ko, satvar pakd dusht ko laoo l
या शिरडी की सीमा से, कपटी को दूर भगाओ॥

Ya shirdi ki seema se, kapti ko dur bhagaoo ll

मेरे रहते भोली-भाली, शिरडी की जनता को।
Mere rahte bholi-bhali, shirdi ki janta ko l
कौन नीच ऐसा जो, साहस करता है छलने को ॥80॥

Kain neech aesa jo, sahas karta hai chalne ko ll 80 ll

पलभर में ऐसे ढोंगी, कपटी नीच लुटेरे को।
Palbhar main aese dongi, kapti neech lutere ko l
महानाश के महागर्त में पहुँचा, दूँ जीवन भर को॥

Mahanash ke mahagtr main pahuch, du jeewan bhar ke ll

तनिक मिला आभास मदारी, क्रूर, कुटिल अन्यायी को।
Tanik mila aabhas madari, krur, kutil anyayi ko l
काल नाचता है अब सिर पर, गुस्सा आया साई को॥

Kal nachta hai aab sir par, gussa aaya sai ko ll

पलभर में सब खेल बंद कर, भागा सिर पर रखकर पैर।
Palbhar main sab khel band kar, bahga sir par rakhkar pair l
सोच रहा था मन ही मन, भगवान नहीं है अब खैर॥

Soch raha tha man hi man, bhagvan nahin hai aab khair ll

सच है साई जैसा दानी, मिल न सकेगा जग में।
Sach hai sai jaisa dani, mil na sakega jag main l
अंश ईश का साई बाबा, उन्हें न कुछ भी मुश्किल जग में॥

Ansh ish ka soi baba, unhe na kuch muskhil jag main ll

स्नेह, शील, सौजन्य आदि का, आभूषण धारण कर।
Sarh, sheel, saijay aadi ka, aabhushan dharan kar l
बढ़ता इस दुनिया में जो भी, मानव सेवा के पथ पर॥

Badta is duniya main jo bi, maanav seva ke path par ll

वही जीत लेता है जगती के, जन जन का अन्तःस्थल।
Vahi jeet leta hai jagti ke, jan jan ka ant: sthal l
उसकी एक उदासी ही, जग को कर देती है विह्वल॥

Uski ek udasi hi, jag ko kae deti hai vihal ll

जब-जब जग में भार पाप का, बढ़-बढ़ ही जाता है।
Jab-jab jag main bhar paap ka, bade-bade hi jata hai l
उसे मिटाने की ही खातिर, अवतारी ही आता है॥

Usi mitane ki hi khatir, avtari hi aata hai ll

पाप और अन्याय सभी कुछ, इस जगती का हर के।
Paap aut anyay sabi kuch, is jagti ka har ke l
दूर भगा देता दुनिया के, दानव को क्षण भर के॥
Dur bhaga deta duniya ke, danav ke shan bhar ke ll

स्नेह सुधा की धार बरसने, लगती है इस दुनिया में।
Sneh sudha ki dher barsane, lagti hai is duniya main l
गले परस्पर मिलने लगते, हैं जन-जन आपस में॥

Gale parspar milne lagte, hai jan-jan aapas main ll

ऐसे अवतारी साई, मृत्युलोक में आकर।
Aese avtari sai, mrtyulok main aakar l
समता का यह पाठ पढ़ाया, सबको अपना आप मिटाकर ॥90॥

Samta ka yah path padaya, sabko aapna aap mitakar ll 90 ll

नाम द्वारका मस्जिद का, रखा शिरडी में साई ने।
Naam drarka majid ka, rakh shirdi main sai ne l
दाप, ताप, संताप मिटाया, जो कुछ आया साई ने॥

Daap, taap. santap mitaya, jo kuch aaya sai ne ll

सदा याद में मस्त राम की, बैठे रहते थे साई।
Sada yaad main mast ram ki, baite rahte the sai l
पहर आठ ही राम नाम को, भजते रहते थे साई॥

Pahar aat hi ram naam ko. bhajte rahte the sai ll

सूखी-रूखी ताजी बासी, चाहे या होवे पकवान।
Sukh-rookhi taji basi, chahe ya hove pakvat l
सौदा प्यार के भूखे साई की, खातिर थे सभी समान॥

saida pyar ke bhukhe sai ki, khatir the sabhi saman ll

स्नेह और श्रद्धा से अपनी, जन जो कुछ दे जाते थे।
Sneh aur sraddha aapni, jan jo kuch de jate the l
बड़े चाव से उस भोजन को, बाबा पावन करते थे॥

Bade chav us bhojan ko, baba pavan karte the ll

कभी-कभी मन बहलाने को, बाबा बाग में जाते थे।
Kabhi-kabhi man bahlane ko, baba bag main jate the l
प्रमुदित मन में निरख प्रकृति, छटा को वे होते थे॥

Pramudin man main nirkh prakrti, chata ko be hote the ll

रंग-बिरंगे पुष्प बाग के, मंद-मंद हिल-डुल करके।
Rang-birange pushp baag ke, mand-mand hil-dul karne l
बीहड़ वीराने मन में भी स्नेह सलिल भर जाते थे॥

Bihad birane man main bhi sneh salil bhar jate the ll

ऐसी समुधुर बेला में भी, दुख आपात, विपदा के मारे।
Asi samudhar bela main bi, dukh aapaat, bipada ke mare l
अपने मन की व्यथा सुनाने, जन रहते बाबा को घेरे॥

Aapne man ki vyatha sunane, jan rahte baba ko ghere l

सुनकर जिनकी करूणकथा को, नयन कमल भर आते थे।
Sunkar jinki karunkath ko, nayan kamal bhar aate the l
दे विभूति हर व्यथा, शांति, उनके उर में भर देते थे॥

De bibhuit har vyatha, shanti, unke us main bhar dete the ll

जाने क्या अद्भुत शिक्त, उस विभूति में होती थी।
Jaane kya adbhut shikt, us vibhuti main hoti thi l
जो धारण करते मस्तक पर, दुःख सारा हर लेती थी॥

Jo dharan karte mastak par, dukh sara har leti thi ll

धन्य मनुज वे साक्षात् दर्शन, जो बाबा साई के पाए।
Dhany manuj ve saakshaat darshan, jo baba sai ke pae l
धन्य कमल कर उनके जिनसे, चरण-कमल वे परसाए ॥100॥

dhany kamal kar unke jinse, charan-kamal ve parsae ll 100 ll

काश निर्भय तुमको भी, साक्षात् साई मिल जाता।
Kash bibary tumko bi, sakshat sai mil jata l
वर्षों से उजड़ा चमन अपना, फिर से आज खिल जाता॥

varshon se ujda chaman aapna, fir se aaj khil jata ll

गर पकड़ता मैं चरण श्री के, नहीं छोड़ता उम्रभर।
Gar pakdna main charan shri ke, nahin chodta umrbhar l
मना लेता मैं जरूर उनको, गर रूठते साई मुझ पर ॥102||

Mana leta main jarur unko, gar roodte sai mujh par ll 102 ll

Sai Chalisa

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

सम्बंधित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *