Pitar Chalisa | पितर चालीसा

Pitar Chalisa

Pitar Chalisa

|| दोहा ||

हे पितरेश्वर आपको दे दियो आशीर्वाद,
Hai pitareshvar aapko de diya aasheervad,
चरणाशीश नवा दियो रखदो सिर पर हाथ।

Charanasheesh nava diya rakhdo sir par hath l
सबसे पहले गणपत पाछे घर का देव मनावा जी।

Sabse pahle ganpat pache ghar ka dev mnava ji l
हे पितरेश्वर दया राखियो, करियो मन की चाया जी।।

Hai pitareshvar daya rakhiye, kariye man ki chaya ji l

|| चौपाई ||

पितरेश्वर करो मार्ग उजागर, चरण रज की मुक्ति सागर।
pitareshvar kare magr ujagar, charan raj mukit sagar l
परम उपकार पित्तरेश्वर कीन्हा, मनुष्य योणि में जन्म दीन्हा।

Param upkar pitareshvar kinha, mahushy yoni main janm dinha l
मातृ-पितृ देव मन जो भावे, सोई अमित जीवन फल पावे।

Maatr-pitr dev man jo bhave, sai amit jeevan fal pave l
जै-जै-जै पित्तर जी साईं, पितृ ऋण बिन मुक्ति नाहिं।

Jai-jai-jai pittar ji sai, pitr rsn bin mukti nahin l

चारों ओर प्रताप तुम्हारा, संकट में तेरा ही सहारा।
Charen aur tumhara, sankat main tera hi sahara l
नारायण आधार सृष्टि का, पित्तरजी अंश उसी दृष्टि का।

Narayan aadhar srsht ka, pittrji ansh ushi drshti ka l
प्रथम पूजन प्रभु आज्ञा सुनाते, भाग्य द्वार आप ही खुलवाते।

Praman pujan prabhu aagya sunate, bhagy dvaar aap hi khulvate l
झुंझनू में दरबार है साजे, सब देवों संग आप विराजे।

Jhubjhnu main darbaar hai saje, sab devon sang aap viraje l

प्रसन्न होय मनवांछित फल दीन्हा, कुपित होय बुद्धि हर लीन्हा।
Prasatr hoy manbanchit fal dinha, kupit hoy buddhi har linha l
पित्तर महिमा सबसे न्यारी, जिसका गुणगावे नर नारी।

Pittar mahima sabse nyari, jiska gungave nar nari l
तीन मण्ड में आप बिराजे, बसु रुद्र आदित्य में साजे।

Teen mand main aap biraje, basu rudr aadity main saje l
नाथ सकल संपदा तुम्हारी, मैं सेवक समेत सुत नारी।

Nath sakal sanpada tumhari, main sevak samet sut nari l

छप्पन भोग नहीं हैं भाते, शुद्ध जल से ही तृप्त हो जाते।
Chappan bhog nahin hai bhate, suddh jal se hi trpt ho jaate l
तुम्हारे भजन परम हितकारी, छोटे बड़े सभी अधिकारी।

Tumhare bhajan param hitkari, chote bade sabhi adikari l
भानु उदय संग आप पुजावै, पांच अँजुलि जल रिझावे।

Bhanu uday sang aap pujavai, panch ajuli jal rijhave l
ध्वज पताका मण्ड पे है साजे, अखण्ड ज्योति में आप विराजे।

Dvaj pataka mand pe hai saaje, akhnd jyoti main aap viraje l

सदियों पुरानी ज्योति तुम्हारी, धन्य हुई जन्म भूमि हमारी
Sadiyon purani jyoti tumhari, dhany hui janam bhumi hamari l
शहीद हमारे यहाँ पुजाते, मातृ भक्ति संदेश सुनाते।

Shahid hamare yaha pujate, matr bhakti sandesh sunate l
जगत पित्तरो सिद्धान्त हमारा, धर्म जाति का नहीं है नारा।

Jagat pittro sidhinr hmara, dharm jati ka nahin hai nara l
हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सब पूजे पित्तर भाई।

Hindu muslin sikh isaai sab puje pittar bhai l

हिन्दू वंश वृक्ष है हमारा, जान से ज्यादा हमको प्यारा।
Hindu vnsh hai hamara, jan se jyadi humko pyara l
गंगा ये मरुप्रदेश की, पितृ तर्पण अनिवार्य परिवेश की।

Ganga ye marupradesh ki, pitr tapran anivaye parivesh ki l
बन्धु छोड़ ना इनके चरणाँ, इन्हीं की कृपा से मिले प्रभु शरणा।

Bandhu chod na inke charna, inhi ki krpa se mile prabhu sharna l
चौदस को जागरण करवाते, अमावस को हम धोक लगाते।

Chaidas ko jaagran karvaate, amavas ko hum dhok lahate l

जात जडूला सभी मनाते, नान्दीमुख श्राद्ध सभी करवाते।
Jaat jadula sabhi manate, nandimukh sharddha sabhi karvate l
धन्य जन्म भूमि का वो फूल है, जिसे पितृ मण्डल की मिली धूल है।

Dhny janm bhumi ka vo fal hai, jise pitr mandal ki mili dhul hai l
श्री पित्तर जी भक्त हितकारी, सुन लीजे प्रभु अरज हमारी।

Shri pittr ji bhakt hitkari, sun lije prabhu araj hamari l
निशिदिन ध्यान धरे जो कोई, ता सम भक्त और नहीं कोई।

Nishidin dyaan dhare jo koi, ta sam bhakt aur nahin koi l

तुम अनाथ के नाथ सहाई, दीनन के हो तुम सदा सहाई।
Tum anath ke nath sahai,, dinan ke ho tum sada sahai l
चारिक वेद प्रभु के साखी, तुम भक्तन की लज्जा राखी।

Chairk ved prabhu ke sakhi, tum bhaktan ki lajja rakhi l
नाम तुम्हारो लेत जो कोई, ता सम धन्य और नहीं कोई।

Naam tumhare let jo koi, ta sam dhny aur nahin koi l
जो तुम्हारे नित पाँव पलोटत, नवों सिद्धि चरणा में लोटत।

Jo tumhare nit paav palotat, nanon siddhi charna main lotat l

सिद्धि तुम्हारी सब मंगलकारी, जो तुम पे जावे बलिहारी।
Siddhi tumhari sab mangalkari, jo tum pe jave balihari l
जो तुम्हारे चरणा चित्त लावे, ताकी मुक्ति अवसी हो जावे।

Jo tumhare charna chitt lave, taki mukhit avsi ho jave l
सत्य भजन तुम्हारो जो गावे, सो निश्चय चारों फल पावे।

Saty bhajan tumhare jo gave, so nichay charen fal pave l
तुमहिं देव कुलदेव हमारे, तुम्हीं गुरुदेव प्राण से प्यारे।

Tumhin dev kuldev hamare, tumhin gurudev pran se pyare l

सत्य आस मन में जो होई, मनवांछित फल पावें सोई।
saty aas man main jo hoi, manvanchit fal paave soi l
तुम्हरी महिमा बुद्धि बड़ाई, शेष सहस्र मुख सके न गाई।

Tumhari mahima buddhi badai, shesh sahasr mukh sake na gai l
मैं अतिदीन मलीन दुखारी, करहुं कौन विधि विनय तुम्हारी।

Main atidin malin dukhri, karhun kon vidhi binay tumhari l
अब पित्तर जी दया दीन पर कीजै, अपनी भक्ति शक्ति कछु दीजै।

Aab pittr ji daya din par kijai, aapni bhakti shakti kuch dijai l

|| दोहा ||

पित्तरों को स्थान दो, तीरथ और स्वयं ग्राम।
Pittren ki sthan do, teerath aur sevyn gram l
श्रद्धा सुमन चढ़ें वहां, पूरण हो सब काम।

Sraddha suman chaden vahan, puran ho sab kam l
झुंझनू धाम विराजे हैं, पित्तर हमारे महान।

jhunjhanoo dham biraje hain pittr hamare mahan l
दर्शन से जीवन सफल हो, पूजे सकल जहान।।

Darshan se jeevan safal ho puje sakal jahan ll
जीवन सफल जो चाहिए, चले झुंझनू धाम।

Jeevan safal jo chahiye, chale jhunjhanu dham l
पित्तर चरण की धूल ले, हो जीवन सफल महान।।

Pittr charan ki dhul le, ho jeewan safal mahan ll

Pitar Chalisa

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

सम्बंधित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *