Pitar Aarti | पितर आरती

Pitar Aarti

Pitar Aarti

य जय पितर महाराज, मैं शरण पड़यों हूँ थारी।
Ye jai pitar maharaj, main sharan padyun hu thari l
शरण पड़यो हूँ थारी बाबा, शरण पड़यो हूँ थारी।।

Sharan padyu hu thari baba, sharan padyu hu thari ll

आप ही रक्षक आप ही दाता, आप ही खेवनहारे।
Aap hi rakshak aap hi data, aap hi khevanhare l
मैं मूरख हूँ कछु नहिं जाणूं, आप ही हो रखवारे।। जय।।

Main murkh kachu nahin janun, aap hi ho rakhbare ll jai ll

आप खड़े हैं हरदम हर घड़ी, करने मेरी रखवारी।
Aap khade hain hardam har ghadi karne meri rakhbari l
हम सब जन हैं शरण आपकी, है ये अरज गुजारी।। जय।।

Hum sab jan hai sharan aapki, hai ye aaraj gujari ll jai ll

देश और परदेश सब जगह, आप ही करो सहाई।
Desh aut pardesh sab jagah, aap hi kare sahai l
काम पड़े पर नाम आपको, लगे बहुत सुखदाई।। जय।।

Kam pade par naam aapke, lage bahut sukhdai ll jai ll

भक्त सभी हैं शरण आपकी, अपने सहित परिवार।
Bhakt sabhi hain sharan aapki, aapne sahit parivar l
रक्षा करो आप ही सबकी, रटूँ मैं बारम्बार।। जय।।

Raksha kare aap hi sabki, ratu main baarmbaar ll jai ll

Pitar Aarti

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

सम्बंधित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *