Mangalvar Vrat Ki Aarti | मंगलवार व्रत आरती

Mangalvar Vrat Ki Aarti

Mangalvar Vrat Ki Aarti

हिंदू संस्कृति के अनुसार मंगलवर व्रत भगवान मंगल (मंगल) ग्रह को प्रसन्न करने के लिए मनाया जाता है। मंगलवर व्रत भी भगवान हनुमान के लिए रखा जाता है। भगवान हनुमान के लिए मंगलवर व्रत की कथा एक अलग वीडियो नाम में दी गई है: – हनुमान के लिए मंगलवर व्रत कथा।

Mangalvar Vrat Ki Aarti

मंगल मूरति जय जय हनुमन्ता, मंगल मंगल देव अनन्ता
Mangal murti jai jai hanumanta, mangal mangal dev ananta

हाथ वज्र और ध्वजा विराजे, कांधे मूंज जनेउ साजे
Hath vajr aur dhvaja viraaje, kandhe monj janeoo saje

शंकर सुवन केसरी नन्दन, तेज प्रताप महा जग वन्दन॥
shankar suvan kesari nandan, tez pratap maha jag vandan ll

लाल लंगोट लाल दोउ नयना, पर्वत सम फारत है सेना
Laal langot laal dou naynaa, pherat sam farat hai sena

काल अकाल जुद्ध किलकारी, देश उजारत क्रुद्ध अपारी॥
Kaal akaal juddh kilkari, desh ujaarat kruddh apaari ll

राम दूत अतुलित बलधामा, अंजनि पुत्र पवन सुत नामा
Ram doot atulit baladhama, anjani putr pawan sut nama

महावीर विक्रम बजरंगी, कुमति निवार सुमति के संगी॥
Mahaveer vikram bajrangi, kimit nivar sumit ke sangi ll

भूमि पुत्र कंचन बरसावे, राजपाट पुर देश दिवाव
Bhoomi Putr barsave, rajpaat pur desh divav

शत्रुन काट-काट महिं डारे, बन्धन व्याधि विपत्ति निवारें॥
Shatrun kat-kat mahin dare, vandhan vyadhi vipatti nivaren ll

आपन तेज सम्हारो आपे, तीनो लोक हांक ते कांपै
Aapan tez samhare aape, teeno lok hank te kanpay

सब सुख लहैं तुम्हारी शरणा, तुम रक्षक काहू को डरना॥
Sab sukh lahan tumhari sharna, tum raksha kahu ke darna ll

तुम्हरे भजन सकल संसारा, दया करो सुख दृष्टि अपारा
Tumre bhajan sakal sansara, daya kare sukh drshti apara

रामदण्ड कालहु को दण्डा, तुमरे परस होत सब खण्डा॥
Ramdand kalhu ke danda, tumre paras hot sab khanda ll

पवन पुत्र धरती के पूता, दो मिल काज करो अवधूता
Pavan putr dharni ke poot, do mil kaaj kare avdhota

हर प्राणी शरणागत आये, चरण कमल में शीश नवाये॥
har prani sharnagat aaye, charan kamal main shish navaye ll

रोग शोक बहुत विपत्ति घिराने, दरिद्र दुःख बन्धन प्रकटाने
Rog shok bahut vipatti ghirani, daridr dukh bandhan praktane

तुम तज और न मेटन हारा, दोउ तुम हो महावीर अपारा॥
Tum tez aur na mitan hara, dou tum ho mahaveer apara ll

दारिद्र दहन ऋण त्रासा, करो रोग दुःस्वप्न विनाशा
daridr dahan rdan, kare rog duhsvapn vinasha

शत्रुन करो चरन के चेरे, तुम स्वामी हम सेवक तेरे॥
Shatrun kare charan ke chere, tum swami hum sewak tere ll

विपत्ति हरन मंगल देवा अंगीकार करो यह सेवा
Vipatti haran mangal deva aageekar kare yah seva

मुदित भक्त विनती यह मोरी, देउ महाधन लाख करोरी॥
Mudit bhakt vinati yah meri, dau mahadhan lakh kareri ll

श्री मंगल जी की आरती हनुमत सहितासु गाई
Shri mangal ji ki aarti hanuman sahitasu gai

होइ मनोरथ सिद्ध जब अन्त विष्णुपुर जाई
Hoi manoth anukram jab antar vishnupur jaai

Mangalvar Vrat Ki Aarti

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

सम्बंधित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *