Mahaveer Chalisa | महावीर चालीसा

Mahaveer Chalisa

Mahaveer Chalisa

|| दोहा ||

शीश नवा अरिहन्त को, सिद्धन करूँ प्रणाम।
Sheesh nava arihat ko, siddhan karu pranam l
उपाध्याय आचार्य का, ले सुखकारी नाम।

Upadyay chachary la, le sukhkari naam l
सर्व साधु और सरस्वती, जिन मन्दिर सुखकार।

Sacr sadhu aur sarsvati, jin maindir sukhkar l
महावीर भगवान को, मन-मन्दिर में धार।

Mahaveer bahvan ko, man0mandir main dhar l

|| चौपाई ||

जय महावीर दयालु स्वामी, वीर प्रभु तुम जग में नामी।
Jai mahaveer dyalu swami, veer prabhu tum jag main nami l
वर्धमान है नाम तुम्हारा, लगे हृदय को प्यारा प्यारा।

vardhman hai naam tumhara, lage harday ko pyara pyara l
शांति छवि और मोहनी मूरत, शान हँसीली सोहनी सूरत।

Shanti chavi aur mohni murat, shan hasili sphni surat l
तुमने वेश दिगम्बर धारा, कर्म-शत्रु भी तुम से हारा।

Tumne vesh digmbar dhara, karm-shatru bi tum se hara l

क्रोध मान अरु लोभ भगाया, महा-मोह तुमसे डर खाया।
Krodh man aru lobh bhagaya, maha-moh tumse dar khaya l
तू सर्वज्ञ सर्व का ज्ञाता, तुझको दुनिया से क्या नाता।

Tu sarvgy ka gyata, tujhko duniya se kya nata l
तुझमें नहीं राग और द्वेष, वीर रण राग तू हितोपदेश।

Tujhmain nahin rag aur dvesh, beer ran rag tu hitopdesh l
तेरा नाम जगत में सच्चा, जिसको जाने बच्चा बच्चा।

Tera naam jagat main saccha, jisko jane baccha baccha ll

भूत प्रेत तुम से भय खावें, व्यन्तर राक्षस सब भग जावें।
Bhoot pret tum se bhay khaven, vyantar raakshas sab bhag javen l
महा व्याध मारी न सतावे, महा विकराल काल डर खावे।

Maha vyadh mari na satave, maha vikral kkal dar khave l
काला नाग होय फन धारी, या हो शेर भयंकर भारी।

Kala naag hoy fan dhari, ya ho sher bhaynkar bhari l
ना हो कोई बचाने वाला, स्वामी तुम्हीं करो प्रतिपाला।

Naa ho koi bachane vala. svami tumhin karo pratipala l

अग्नि दावानल सुलग रही हो, तेज हवा से भड़क रही हो।
Agni davanal sulag rahi ho, tez hava se bhadak rahi ho l
नाम तुम्हारा सब दुख खोवे, आग एकदम ठण्डी होवे।

Naam tumhara sab sukh khove, aag ekdam tandi hove l
हिंसामय था भारत सारा, तब तुमने कीना निस्तारा।

Hinsamay tha bharat sara, sab tumne kina nistara l
जनम लिया कुण्डलपुर नगरी, हुई सुखी तब प्रजा सगरी।

Janam liya kundalpur nagri, hui sukhi tab praja sagari l

सिद्धारथ जी पिता तुम्हारे, त्रिशला के आँखों के तारे।
siddhaarath ji pita tumhare, trishla ke aakhon ke tare l
छोड़ सभी झंझट संसारी, स्वामी हुए बाल-ब्रह्मचारी।

Chod sabhi jhnjhat sansari, svami hue baal-brahmachaari l
पंचम काल महा-दुखदाई, चाँदनपुर महिमा दिखलाई।

Pancham kal maha-dukhdai, chandrapur mahima dikhlai l
टीले में अतिशय दिखलाया, एक गाय का दूध गिराया।

Temo main atishay dikhlaya, ek gaay ka dukh giraya l

सोच हुआ मन में ग्वाले के, पहुँचा एक फावड़ा लेके।
Soch hua man main gvale ke, pahucha ek favda leke l
सारा टीला खोद बगाया, तब तुमने दर्शन दिखलाया।

Sara tila khof bagaya, tab tumne darshan dikhlaya l
जोधराज को दुख ने घेरा, उसने नाम जपा जब तेरा।

Jodhraj ke dukh ne ghera, usne naam japa jab tera l
ठंडा हुआ तोप का गोला, तब सब ने जयकारा बोला।

Tanda hua tap ka gola, tab san ne jaikara bola l

मंत्री ने मन्दिर बनवाया, राजा ने भी द्रव्य लगाया।
Mntri ne mandir banvaya, raja ne bhi dravy lagaya l
बड़ी धर्मशाला बनवाई, तुमको लाने को ठहराई।

Badi dharmshala banvai, rumko lane ko tahrai l
तुमने तोड़ी बीसों गाड़ी, पहिया खसका नहीं अगाड़ी।

Tumne todi bisen padi, pahiya khaska nahin agadi l
ग्वाले ने जो हाथ लगाया, फिर तो रथ चलता ही पाया।

Gvale ne jo hath lagaya, fir te rath chalta hi paya l

पहिले दिन बैशाख बदी के, रथ जाता है तीर नदी के।
Pahile din baishakh badi ke rath jata hai teer nadi ke l
मीना गूजर सब ही आते, नाच-कूद सब चित उमगाते।

meena gujar sab hi aatem nach-kud sab nit umgate l
स्वामी तुमने प्रेम निभाया, ग्वाले का बहु मान बढ़ाया।

Svami tumne orem nibhaya, gvale ka bahu man badaya l
हाथ लगे ग्वाले का जब ही, स्वामी रथ चलता है तब ही।

Hath lage gvale ka jab hi svami rath chalta hai tab hi l

मेरी है टूटी सी नैया, तुम बिन कोई नहीं खिवैया।
Meri hai tuti si naiya, tum bin koi nahin khibaiya l
मुझ पर स्वामी जरा कृपा कर, मैं हूँ प्रभु तुम्हारा चाकर।

Mukh par svami jara krpa kar, main hu prabhu tumhara chakar l
तुम से मैं अरु कछु नहीं चाहूँ, जन्म-जन्म तेरे दर्शन पाऊँ।

TUm se main aru kachu nahin chahun, janm-janm tere darshan paoo l
चालीसे को चन्द्र बनावे, बीर प्रभु को शीश नवावे।

chalise ko chandr banave, veer prabhu ko shesh nvavi l

|| सोरठा ||

नित चालीसहि बार, बाठ करे चालीस दिन।
Nit chalisahi bar, bath kare chalisa din l
खेय सुगन्ध अपार, वर्धमान के सामने।।

Khel sygndh apar, vdhrman ke saamne ll
होय कुबेर समान, जन्म दरिद्री होय जो।

Hoy kuber samaan, janm daridree hoy jo l
जिसके नहिं संतान, नाम वंश जग में चले।।

Jiske nahin santan, naam vansh jag main chale ll

Mahaveer Chalisa

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

सम्बंधित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *