Ekadashi mata ki aarti | एकादशी माता की आरती

Ekadashi mata ki aarti

Ekadashi mata ki aarti

ॐ जय एकादशी, जय एकादशी, जय एकादशी माता।
ॐ Jai ekadashi, jai ekadashi, jai ekadashi mata l

विष्णु पूजा व्रत को धारण कर, शक्ति मुक्ति पाता॥
Vishnu pooja vrat ko dharan kar, shakti mukti pata ll

ॐ जय एकादशी ॥
ॐ jai ekadashi ll

तेरे नाम गिनाऊं देवी, भक्ति प्रदान करनी।
Tere naam ginaoon devi, bhakti pradan karni l

गण गौरव की देनी माता, शास्त्रों में वरनी॥
Gun gavrav ki deni mata, shastron main varni ll

जय एकादशी
ॐ Jai ekadashi ll

मार्गशीर्ष के कृष्णपक्ष की उत्पन्ना, विश्वतारनी जन्मी।
Maargashish ke krshnpaksh ki utpana, vishvatarani janmi l

शुक्ल पक्ष में हुई मोक्षदा, मुक्तिदाता बन आई॥
Shukl paksh main hui, mokshada, muktidata van aai ll

ॐ जय एकादशी॥
ॐ Jai ekadashi ll

पौष के कृष्णपक्ष की, सफला नामक है।
Paush ke krshnpaksh ki, safala namak hai l

शुक्लपक्ष में होय पुत्रदा, आनन्द अधिक रहै॥
Shuklpaksh main hoy putrada, aanand adjik rahe ll

ॐ जय एकादशी॥
ॐ Jai ekadashi ll

नाम षटतिला माघ मास में, कृष्णपक्ष आवै।
Naam shatatila magh mas main, krshnpaksh aavai l

शुक्लपक्ष में जया, कहावै, विजय सदा पावै॥
Shuklprsh main jaya, kahave, vijay sada pave ll

ॐ जय एकादशी॥
ॐ Jai ekadashi ll

विजया फागुन कृष्णपक्ष में शुक्ला आमलकी।
Vijaya falgun krhsnpaksh main shukla aamlki l

पापमोचनी कृष्ण पक्ष में, चैत्र महाबलि की॥
Paapmechni krhsn paksh main, chaitr mahabali ki ll

ॐ जय एकादशी॥
ॐ Jai ekadashi ll

चैत्र शुक्ल में नाम कामदा, धन देने वाली।
Chatr shukl main naam kamda, dhan dene vali l

नाम बरुथिनी कृष्णपक्ष में, वैसाख माह वाली॥
Naam baruthini krshnpaksh main, vaisakh mah vali ll

ॐ जय एकादशी॥
ॐ Jai ekadashi ll

शुक्ल पक्ष में होय मोहिनी अपरा ज्येष्ठ कृष्णपक्षी।
Shukl paksh main hoy mohini apara jyeshth krshnpakshi l

नाम निर्जला सब सुख करनी, शुक्लपक्ष रखी॥
Naam nirjala sab sukh karni, shuklpaksh rakhi ll

ॐ जय एकादशी॥
ॐ Jai ekadashi ll

योगिनी नाम आषाढ में जानों, कृष्णपक्ष करनी।
Yogini naam aashadh main jaanin, keshnpaksh karni l

देवशयनी नाम कहायो, शुक्लपक्ष धरनी॥
Devshayani naam kahayo, shuklpaksh dharni ll

ॐ जय एकादशी॥
ॐ Jai ekadashi ll

कामिका श्रावण मास में आवै, कृष्णपक्ष कहिए।
Kamika shavan maas main aave, krshnpakrsh kahie l

श्रावण शुक्ला होय पवित्रा आनन्द से रहिए॥
Shravan sukla hoy pavitra aanand se rahie ll

ॐ जय एकादशी॥
ॐ Jai ekadashi ll

अजा भाद्रपद कृष्णपक्ष की, परिवर्तिनी शुक्ला।
Aja bhadrapad krshnpaksh ki, parivartini shukla l

इन्द्रा आश्चिन कृष्णपक्ष में, व्रत से भवसागर निकला॥
Indra aashchin krshnpaksh main, vrat se bhavasagar nikala ll

ॐ जय एकादशी॥
ॐ Jai ekadashi ll

पापांकुशा है शुक्ल पक्ष में, आप हरनहारी।
Paapankusha hai shukl paksh main, aap harnhari l

रमा मास कार्तिक में आवै, सुखदायक भारी॥
Ramaa mas karik main aavai, shukhdayak bhari ll

ॐ जय एकादशी॥
ॐ Jai ekadashi ll

देवोत्थानी शुक्लपक्ष की, दुखनाशक मैया।
devotthaanee shuklpaksh ki dukhnashak maiya l

पावन मास में करूं विनती पार करो नैया॥
Paavan maas main karun binti par kare naiya

ॐ जय एकादशी॥
ॐ Jai ekadashi ll

परमा कृष्णपक्ष में होती, जन मंगल करनी।
Param krshnpaksh main hote, jan mangal karni l

शुक्ल मास में होय पद्मिनी दुख दारिद्र हरनी॥
Shukl maas main hoy padmini dukh daridr harni ll

ॐ जय एकादशी॥
ॐ Jai ekadashi ll

जो कोई आरती एकादशी की, भक्ति सहित गावै।
jo koi aarti ekadashi ki, bhakti sahit gave l

जन गुरदिता स्वर्ग का वासा, निश्चय वह पावै॥
Jan gurdita svarg ka vasa, nichchay vah pave ll

ॐ जय एकादशी॥
ॐ Jai ekadashi ll

Ekadashi mata ki aarti

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

सम्बंधित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *